Tuesday 30 April 2013

हिन्दुस्तान के दिल मध्यप्रदेश में भी लड़कियां सुरक्षित नहीं




हिंदोस्तां का दिल देखा हिंदोस्तां का दिल देखा। बड़ा $फ$ख्र महसूस करती थी मैं जब भी टेलिविजऩ पर मध्य प्रदेश का ये विज्ञापन देखा करती थी। बुंदेलखंडी हूं, जन्म मध्य प्रदेश के रीवा में हुआ। दतिया मेरा ननिहाल है। सारे रिश्ते-नाते, बचपन की खट्टी मीठी यादें मध्य प्रदेश से ही जुड़ी हुई हैं। गर्मियों की छुट्टियां शुरू हुई नहीं कि हमारा मध्य प्रदेश भ्रमण शुरू हो जाता। लेकिन आज मैं आप सबको ये सारी बातें क्यों बता रही हूं। क्योंकि आज मुझे हिंदुस्तान के इस दिल के पत्थर हो जाने पर बेहद अफसोस होता है।


अफसोस होता है अपनी जड़ों को सड़ते देख कर। अफसोस होता है और सर शर्म से झुकता है मध्य प्रदेश में बच्चियों, महिलाओं के साथ हो रहे दुराचार पर और राज्य के मंत्रियों के बयानों पर। दिल्ली में घटी हर घटना सुर्खियों में होती है। सभी चैनलों पर चर्चा होती है, अखबारों की हेडलाइन होती है। लोग सड़कों पर उतरते हैं, दिल्ली पुलिस कमिश्नर के इस्तीफे की मांग ज़ोर शोर से होती है। गृह मंत्री संसद में बयान देते हैं। ये विरोध अब ज़रूरी है इससे पहले कि बहुत देर हो जाए। पर सवाल यह है कि अपराध क्या सिर्फ  देश की राजधानी में हो रहे हैं। क्या बलात्कारी सिर्फ  दिल्ली में हैं? नेताओं और पुलिस अधिकारियों के गैर-जि़म्मेदाराना बयान सिर्फ देश के केंद्र में हो रहे हैं। 

कई दिन से लगातार मध्य प्रदेश गलत वजहों से ही खबरों में आ रहा है। कभी स्विस टूरिस्ट के साथ बलात्कार तो कभी पांच साल की बच्ची के साथ। हां याद आया, इसी राज्य के एक सम्मानित नेताजी का कहना था कि बलात्कार उन महिलाओं के साथ होता है जो मर्यादा पार करती हैं। तो मन में ये सवाल आना तो लाजमी है कि स्विस महिला और पांच साल की एक मासूम ने कैसे मर्यादा पार की होगी। एक नेताजी ने कहा कि स्विस महिला दतिया पहुंचीं तो पुलिस को इत्तिला क्यों नहीं किया। ये बेचारे नेताजी शायद कभी उस महिला के देश स्विटजऱलैंड नहीं गए। मैं गई थी पिछले साल। न मैंने अपने पहुंचने की खबर किसी पुलिस स्टेशन में दी, न मेरे साथ कहीं कोई बदसलूकी हुई, न मुझे वहां एक पल को भी डर लगा। अब आती है आरएसएस के प्रमुख मोहन भागवत की बात कि बलात्कार भारत में नहीं इंडिया में होते हैं। तो जनाब दतिया, सिवनी, जबलपुर, बांधवगढ़ भारत में हैं या इंडिया में, इस पर भी कुछ रोशनी डाल दी जाए तो बड़ी मेहरबानी होगी। आप लोगों को याद दिलाने के लिए तारीखों के साथ कुछ भयावह और दर्दनाक हादसों का जि़क्र कर रही हूं। मध्य प्रदेश के हडोल में नौ साल की बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार की खबर आ रही है। आखेटपुर गाँव की लड़की के साथ बीती शाम दो लड़कों ने गैंगरेप किया। वह शाम को बकरी चराने निकली थी और घर लौटी तो बेहोश हो गई। अस्पताल में पता चला कि उसके साथ बलात्कार हुआ है। एमपी के ही ग्राम टिकारी में एक 45 वर्षीय अधेड़ द्वारा छह वर्षीया बालिका के साथ बलात्कार किए जाने का मामला सामने आया है। पुलिस ने बताया कि ग्राम टिकारी में एक छह वर्षीय बालिका को पड़ोस में रहने वाला 45 वर्षीय अधेड़ मेहतराम उसे पैसे व आम का लालच देकर उठा ले गया और दुष्कृत्य किया। परिवारजनों को जब काफी देर तक घर के बाहर बच्ची नहीं दिखी तो उन्होंने खोजबीन प्रारंभ की तो बालिका उन्हें एक खेत में मिली। 

24 अप्रैल मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ जिले में 14 साल की आदिवासी बच्ची के साथ बलात्कार की खबर है। बताया जा रहा है कि इसी गाँव के एक लड़के ने घर में घुसकर बलात्कार किया और बाद में उसे जला दिया। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ  मामला दर्ज किया। बलात्कार के बाद जली हुई बच्ची को अस्पताल ले जाया गया, लेकिन उसे बचाया नहीं जा सका। 23 अप्रैल नागपुर, मध्य प्रदेश के सिवनी जिले में एक वहशी की दरिंदगी का शिकार बनी चार वर्षीय बालिका का नागपुर के अस्पताल में इलाज जारी है, मगर उसकी तबीयत और खराब हो गई है और उसे मैकेनिकल वैंटिलेटर पर रखा गया है। 21 अप्रैल दतिया, स्विट्जरलैंड की युवती के साथ हुए सामूहिक दुष्कर्म के चलते सुर्खियों में आए मध्य प्रदेश के दतिया जिले में एक और सामूहिक दुष्कर्म की घटना सामने आई है। इस बार एक पार्षद ने चार साथियों के साथ मिलकर अपने ही शहर की युवती की इज्जत को तार-तार कर दिया है। पांचों आरोपी फरार हैं। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। 9 अप्रैल गुना जिले के बजरंगगढ़ थाना क्षेत्र के बरखेड़ा गाँव में छेडख़ानी एवं बलात्कार के बाद आरोपियों द्वारा चुप रहने की धमकियों से परेशान कक्षा आठवीं की एक छात्रा ने गुरुवार को आत्मदाह कर जान देने का प्रयास किया। लड़की के परिजनों ने पुलिस को दिए बयान में कहा है कि आठवीं कक्षा में पढऩे वाली 14 साल की उनकी लड़की को गाँव के ही सोनू आदिवासी एवं सोनू सेन काफी दिनों से परेशान कर रहे थे। गत बुधवार उन्होंने उससे बलात्कार किया, जिसकी शिकायत लड़की ने अपने परिवार से की। इसके बाद लड़की के पिता ने बजरंगगढ़ थाने में रिपोर्ट भी दर्ज कराई। पुलिस ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया, जिससे आरोपियों के हौसले बुलंद हो गए। 29 मार्च भोपाल, स्विटजरलैंड से भारत भ्रमण पर आई एक महिला को सात वहशियों ने अपनी हवस का शिकार बना डाला। पुलिस ने पीडि़त महिला की शिकायत पर सात अज्ञात लोगों के खिलाफ  दुष्कर्म का प्रकरण दर्ज किया है। 

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार भारत भ्रमण पर आया स्विटजरलैंड का जार्ज दंपति साइकिल से ओरछा से आगरा जा रहा था। शुक्रवार को शाम हो जाने के चलते उन्होंने सिविल लाइन थाना क्षेत्र के झरिया गाँव के पास भुतहा जंगल में रुकने का मन बनाया। तभी कुछ हथियार बंद लोगों ने उन्हें घेर लिया और महिला के साथ दुष्कर्म किया। 17 मार्च दक्षिण कोरिया की एक महिला पर्यटक ने पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराई है कि गत 14 जनवरी को मध्य प्रदेश के एक होटल में उसके साथ कथित तौर पर बलात्कार किया गया। 23 साल की इस युवती ने कहा है कि मध्यप्रदेश के उमरिया जिले के बांधवगढ़ बाघ संरक्षित वन क्षेत्र में स्थित एक होटल में एक वेटर ने उसके साथ गत 14 जनवरी को बलात्कार किया। उसने एक होटल में वेटर से अपने कमरे में बीयर मंगाई। उसका आरोप है कि वेटर ने शायद उस बीयर में बेहोशी की दवा या कुछ और मिला दियाए जिससे वह उसे पीते ही बेहोश हो गई। इसके बाद वेटर ने कथित तौर पर उसके साथ बलात्कार किया। राजनेता बलात्कारों पर भी राजनीति कर रहे हैं। दिल्ली के बलात्कारों पर संसद में शोर करने वाले भाजपा नेताओं को शायद मध्य प्रदेश की स्थिति दिखाई नहीं दे रही। बहरहाल इस राज्य की इससे ज़्यादा बदकिस्मती और क्या हो सकती है कि पर्यटन के लुभावने विज्ञापन टीवी पर दिखाने वाले मध्य प्रदेश में आने वाले विदेशी पर्यटकों की संख्या में 25 फीसदी गिरावट आई है। कुछ दिन पहले दतिया गई थी। लाला के तलाब के किनारे बैठ पुराने महल को देखते हुए यही सोच रही थी कि ये खूबसूरती देखने कोई विदेशी आए भी तो कैसे? वाकई, एमपी अजब है, सबसे गज़ब है। 

(लेखिका आईबीएन-7 न्यूज चैनल के शो जिंदगी लाइव की होस्ट हैं।)

1 comment:

  1. dukh isi baat ka hai ki log sirf dilli ko koste rehte hain ,par asal me desh ke kisi bhi kone me ladkiyan surakshit nahi hain ,

    ReplyDelete